छोटी इलाइची के बड़े-बड़े फायदे | Benefits in Hindi

जानिए कैसे छोटी इलाइची आपके स्वास्थ्य को बना सकती है बेहतर! यहाँ पढ़ें इस आयुर्वेदिक मसाले के बड़े फायदों की चुनौती को।

छोटी इलाइची के बड़े-बड़े फायदे | Benefits in Hindi
छोटी इलाइची

छोटी इलाइची, जिसे सामान्यत: 'इलायची' कहा जाता है, जिसका वैज्ञानिक नाम "Elettaria cardamomum" है। इसे अंग्रेजी में "Cardamom" नाम से भी जाना जाता है, जो मसालेदार स्वाद और खास गंध से भरी है। इसका इस्तेमाल भारतीय खाने में अक्सर होता है, जिसमें खाने को अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। छोटी इलाइची न केवल खाने को स्वादिष्ट बनाती है, बल्कि इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। 

छोटी इलाइची का पौधा गहरे हरे रंग का होता है और इसकी सुगंध मसाले में एक विशेषता के रूप में महत्वपूर्ण है। इसमें छोटे-छोटे फूल और वनस्पतियों के बीच से उत्पन्न होने वाले बीज होते हैं, जिन्हें हम इलायची कहते हैं।

इस पौधे के बीजों का सुगंधित तेल निकाला जाता है, जिसे आमतौर से उपयोग में लाया जाता है। इसके तेल में कर्डमॉमोल, टरपीन, पिनेन, लाइमोल, और माइक्रोन शामिल हैं, जो इसको एक औषधिक और खाद्य समृद्धि बनाते हैं। 

इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटीबैक्टीरियल, एंटीइन्फ्लेमेटरी, और एंटीफंगल गुण होते हैं, जो आपके स्वास्थ्य को सुधारने में मदद करते हैं। इसके अलावा, छोटी इलाइची आयुर्वेद में शांतिकारक, उत्तेजक, और मनोबल बढ़ाने वाली गुणों के लिए भी प्रसिद्ध है। 

इसके अलावा, इसके अन्य उपयोग भी हैं, जैसे कि चाय बनाने में, तंदूरी मसाले में, और देसी मिठाई में। इस लेख में, हम जानेंगे कि छोटी इलाइची (Choti Elaichi) के बड़े-बड़े फायदे क्या हैं और इसे कैसे सही तरीके से उपयोग किया जा सकता है।

छोटी इलाइची के स्वास्थ्य लाभ

1. समयपूर्व उत्सर्जन (Premature Emission)

शीघ्रपतन में इलायची और ईसबगोल को आंवले के साथ बराबर मात्रा में लेकर गोलियां बना लें। शीघ्रपतन को ठीक करने के लिए इन गोलियों को रोजाना सुबह और शाम ठंडे पानी के साथ प्रयोग करें।

2. पेशाब में जलन (Burning Urination)

इलायची में सूजन-रोधी गुण होते हैं, जो मूत्र पथ में जलन या जलन के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि आंवले में सूजन-रोधी गुण होते हैं और यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है, जो संभावित रूप से संक्रमण को रोकने में मदद कर सकता है जो पेशाब में जलन पैदा कर सकता है।

इलायची और आंवला पाउडर के मिश्रण को बराबर मात्रा में मिलाकर दिन में दो बार इस्तेमाल करें। यह पेशाब में जलन की समस्या को ठीक करने में मदद करता है।

3. मुँह के छाले (Mouth Ulcers)

इलायची का उपयोग मुंह के छालों को ठीक करने के लिए भी किया जाता है।

इलायची पाउडर को शहद के साथ मिलाकर चाटें और मुंह के छालों से छुटकारा पाएं।

इलायची और शहद दोनों प्राकृतिक उत्पाद हैं जिनके बारे में माना जाता है कि इनमें सूजन-रोधी और जीवाणुरोधी गुण होते हैं, जो मुंह के छालों के इलाज के लिए फायदेमंद होते हैं।

a pile of cardamom seeds next to a bottle of water

यह भी माना जाता है कि सूजनरोधी इलायची मुंह के छालों से जुड़े दर्द और सूजन को कम करने में मदद करती है।

घाव भरने वाले एजेंट के रूप में शहद का उपयोग सदियों से पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता रहा है। शहद का जीवाणुरोधी गुण इसकी उच्च शर्करा सामग्री के कारण होता है, जो बैक्टीरिया के लिए प्रतिकूल वातावरण बनाता है। यह संक्रमण को रोकने और मुंह के छालों के उपचार को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

4. बदहजमी (Indigestion)

पाचन शक्ति को बेहतर करने के लिए भोजन के बाद छोटी इलायची खाएं।

माना जाता है कि इलायची पाचन एंजाइमों के उत्पादन को बढ़ाकर अपच में मदद करती है, जो भोजन को अधिक प्रभावी ढंग से तोड़ने में मदद कर सकती है। यह भी माना जाता है कि इसमें कार्मिनेटिव गुण होते हैं, जिसका अर्थ है कि यह गैस और सूजन से राहत देने में मदद कर सकता है, जो अपच के सामान्य लक्षण हैं।

5. बुखार (Fever)

इलायची दूध के फायदे - बुखार के इलाज में इलायची के बीज, पुनर्नवा (स्प्रेडिंग हॉग-वीड, बोएरहाविया डिफ्यूसा), बिल्व के फल (एगल मार्मेलोस) और दूध को पानी के साथ उबालें। जब पानी सूख जाए और दूध का घोल रह जाए तो इसका प्रयोग करें। ये इलाइची दूध आपको बुखार से छुटकारा दिलाने में मदद करेगा।

पारंपरिक चिकित्सा में, इलायची में ज्वरनाशक गुण होते हैं, जिसका अर्थ है कि यह शरीर के तापमान को कम करके बुखार को कम करने में मदद कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि इसमें सूजनरोधी गुण भी होते हैं, जो शरीर में सूजन को कम करने और बुखार के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

कुछ लोग बुखार को कम करने के घरेलू उपाय के रूप में एक गिलास गर्म दूध में पिसी हुई इलायची डालकर पीने का सुझाव दे सकते हैं। माना जाता है कि यह मिश्रण शरीर को शांत करने और तापमान को कम करने में मदद करता है।

6. शुक्राणु विसर्जन (Sperm discharge)

क्या पेशाब में शुक्राणु निकलने की समस्या का सामना करना पड़ रहा है? फिर रोजाना 2 ग्राम हींग (हींग, फेरूला फोएटिडा) और इलायची पाउडर को घी के साथ मिलाकर सेवन करें। इसलिए इलायची शुक्राणुओं के लिए अच्छी होती है और इसका नियमित सेवन करें।

शुक्राणु गणना से तात्पर्य पुरुष के वीर्य में मौजूद शुक्राणुओं की संख्या से है। कम शुक्राणु संख्या विभिन्न कारकों के कारण हो सकती है, जिनमें आनुवंशिकी, जीवनशैली कारक और कुछ चिकित्सीय स्थितियां शामिल हैं।

जबकि कुछ पारंपरिक चिकित्सक शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के लिए इलायची का उपयोग करने का सुझाव देते हैं।

7. खांसी (Cough)

खांसी की समस्या होने पर इलायची को भूनकर उसका पाउडर बना लें। इस चूर्ण को एक चम्मच प्राकृतिक शहद के साथ मिलाकर प्रयोग करने से खांसी ठीक हो जाती है।

खांसी एक प्राकृतिक प्रतिक्रिया है जो श्वसन पथ से बलगम और अन्य परेशानियों को साफ करने में मदद करती है। खांसी कई कारकों के कारण हो सकती है, जिनमें सर्दी, फ्लू, ब्रोंकाइटिस और अन्य श्वसन संक्रमण शामिल हैं। कुछ पारंपरिक चिकित्सक गले में खराश और छाती में जमाव जैसे खांसी के लक्षणों को कम करने के लिए इलायची और शहद का उपयोग करने का सुझाव दे सकते हैं।

जानिए: खाँसी ठीक करने के 10 आश्चर्यजनक घरेलू उपचार

8. इलायची चाय के फायदे (Elaichi Tea Benefits)

a cup of elaichi tea on top of a table
इलायची की चाय

इलायची की चाय के भी कई स्वास्थ्य लाभ हैं और आप इसे अपनी सामान्य दिनचर्या में उपयोग कर सकते हैं। Elaichi tea आपको ताजगी और सिरदर्द से राहत प्रदान करती है। यह कई त्वचा विकारों को ठीक करने में भी मददगार है।

पाचन को सुधारने में इसका योगदान अत्यधिक है। इलायची की चाय पाचन प्रक्रिया को बेहतर बनाए रखती है और अपच, गैस, और पेट संबंधित समस्याओं को कम करने में मदद करती है।

इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स से युक्त होने के कारण, इलायची की चाय शरीर को रोगों से लड़ने के लिए तैयार रखती है। ये एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर में रक्त परिसंचरण को सुधारते हैं।

डायबिटीज के लिए भी इसका सेवन फायदेमंद है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स और गुणकारी तत्व रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं, जिससे डायबिटीज को कम किया जा सकता है।

इसमें मौजूद तत्व शरीर की श्वासनली को स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं, जिससे सांस की समस्याएं कम हो सकती हैं और यह श्वासनली को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

इलायची की चाय न केवल स्वास्थ्य के लाभ के कारण प्रसिद्ध है, बल्कि इसका स्वाद भी हर किसी को बहुत अच्छा लगता है। इसलिए, इसे रोज़ाना के जीवन में शामिल करके हम न केवल अच्छे स्वास्थ्य का हिस्सा बना सकते हैं, बल्कि स्वाद की बात में भी कोई कमी नहीं आती।

निष्कर्ष:

इस लेख से हमने देखा कि छोटी इलाइची के सेवन से हम न केवल अपने खाद्य को स्वादिष्ट बना सकते हैं, बल्कि स्वास्थ्य को भी संरक्षित रख सकते हैं। इसे सही तरीके से उपयोग करके हम अपने जीवन को और भी स्वस्थ बना सकते हैं।

आम पूछे जाने वाले प्रश्न

  • क्या इलायची का सेवन हमें वजन कम करने में मदद कर सकता है?
    • हां, इलायची के सेवन से मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा मिलता है, जिससे वजन कम करने में मदद हो सकती है।
  • क्या इलायची का सेवन पेट की गैस को कम करने में सहायक है?
    • हां, इलायची के सेवन से पाचन को सुधारकर पेट की गैस को कम करने में मदद हो सकती है।
  • क्या बच्चों को इलायची का सेवन करना सुरक्षित है?
    • हां, बच्चों को उम्र के हिसाब से मात्रा में इलायची का सेवन करना सुरक्षित है, लेकिन इस पर डॉक्टर की सलाह लेना बेहद आवश्यक है।
  • क्या इलायची का सेवन गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है?
    • हां, इलायची का संतुलित मात्रा में सेवन गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है, लेकिन पहले डॉक्टर से सलाह लेना अच्छा है।
  • क्या इलायची का सेवन सोने से पहले किया जा सकता है?
    • हां, इलायची का सेवन सोने से पहले किया जा सकता है, लेकिन यह सुनिश्चित करें कि आप इसे संतुलित मात्रा में कर रहे हैं ताकि नींद पर कोई असर न हो।

Read more

gehu ka daliya

गेहूं का दलिया - एक सस्ता और सेहतमंद विकल्प जो देता है ऊर्जा और पोषण। जानिए इसके फायदे!

गेहूं का दलिया खाने से आपकी त्वचा, बाल, और नाखून स्वस्थ और चमकदार बनते हैं। इसे सेहतमंद आहार का हिस्सा बनाएं।